जीव विज्ञान के 7 मोस्ट इंपोर्टेंट क्वेश्चन | Top 7 Most important Question

(1) जीव विज्ञान के जनक कौन हैं? Jeev Vigyan ke janak kaun hai ?

       जीवविज्ञान के जनक अरस्तु को कहा जाता है। ईसा पूर्व 4 वीं शताब्दी में ग्रीक दार्शनिक अरस्तू ने लेवोस की यात्रा की, जो एजियन टेमिंग में एक द्वीप था, फिर अब वन्यजीवों के साथ। वहाँ जो कुछ भी उसे मिला, उसके साथ उसका आकर्षण और इसके बारे में उसके श्रमसाध्य अध्ययन ने एक नए विज्ञान - जीव विज्ञान के जन्म का नेतृत्व किया। प्रोफेसर आर्मंड लोरी जीवों, स्थानों और विचारों की खोज करने के लिए अरस्तू के नक्शेकदम पर चलते हैं जिन्होंने दार्शनिक को अपने अग्रणी काम में प्रेरित किया। (Post : जीव विज्ञान के मोस्ट इंपोर्टेंट क्वेश्चन)

(2) जीव विज्ञान के ऐसे तथ्य क्या हैं जो सबको जानने चाहिए?

         जीव विज्ञान, विज्ञान की वह धारा है जिसके अंतर्गत जीवधारियों का अध्ययन किया जाता है और इसको मुख्यत: दो भागों में बांटा गया है: (Post -जीव विज्ञान के मोस्ट आई एम पी क्वेश्चन)

1) जंतु विज्ञान (Zoology)

2) वनस्पति विज्ञान (Botany)

जहां जंतु विज्ञान में मानव, पशु,पक्षी, कीड़े-मकोडो का अध्ययन किया जाता है वहीं वनस्पति विज्ञान में पेड़-पौधे, घांस-फूस एंव वनस्पतियों का अध्ययन किया जाता है.

सामान्यतः यह माना जाता है कि जीवन केवल मानवों एंव पशुओं- पक्षियों में पाया जाता है और पेड़-पौधों में जीवन नहीं पाया जाता, लेकिन यह धारणा बिल्कुल ग़लत है , पेड़-पौधौं में भी जीवन होता है और यह सजीव होते हैं.


(3) जीव विज्ञान में कौन-से घटकों का अभ्यास किया जाता है?

        जीव विज्ञान में जीवों के सबंधित सब घटकोंका अभ्यास किया जाता हैं। जीव विज्ञान में वनस्पती , प्राणी , सूक्ष्म जीवाणु , विषाणु , कवक के बारेमेँ सब अभ्यास किया जाता हैं। जीव विज्ञान की मुख्य शाखाएँ प्राणी विज्ञान, वनस्पति विज्ञान जैव रसायन, विकास, पारिस्थितिकी, आनुवंशिकी, शरीर विज्ञान, ऊतक विज्ञान,, जनसंख्या अध्ययन, विकासात्मक जीव विज्ञान, कोशिका विज्ञान, पशु शरीर विज्ञान, जैव प्रौद्योगिकी, हैं इन के बहुत उपशाखाऐं हैं जिनका अभ्यास जिव विज्ञान करता हैं।

जीव जीवित रहेनेकेलिए जो घटक जरुरी जैसे हवा , पानी , अन्न ये घटक भी जीव विज्ञान में हैं। जीव विज्ञान के घटकोंका पूरा वर्णन यहां संभव नहीं।



(4) सूक्ष्म-जीव विज्ञान के जनक कौन थे?

        फ्रांस के वैज्ञानिक लूई पाश्वर 1876 ने बताया कि किण्वन की क्रिया जीवाणु ओ द्वारा होती है इसलिए इनको सुकश्म जीव विज्ञान Microbiology का जनक तथा रोबोट कोच को आधुनिक जीवाणु विग्यान Father Of Modern Becterilogy का जनक कहा जाता है.


(5) कुछ जीवों का खून पीला क्यों होता है?

सभी जीवों के खून का रंग लाल नहीं होता। कुछ जीवों के खून रंग नीला, पीला, हरा व बैंगनी भी होता है। सी क्युकुबंर (sea cucumber), झींगुर(Beetles) व कुछ अन्य कीड़ों में पीला खून पाया जाता है।

इनमें यह रंग वैनेडियम (एक धातु) में स्थित वैनेबीन (प्रोटीन का समूह) की उच्च सांद्रता के कारण होता है।वैनेबीन ऑक्सीजन परिवहन में शामिल नहीं होता है।

Sea cucumber


इस विशिष्ट रंग का कारण यह है कि इन जीवों में अधिकांशतः इंसानों और बड़े जानवरों की तुलना में बिल्कुल अलग तरीके से ऑक्सीजन वहन की प्रक्रिया करते हैं। ये आयरन और ऑक्सीजन को जोड़ने के लिए एक बाध्यकारी एजेंट के रूप में हीमोग्लोबिन के बजाय, हेमोलिम्फ (hemolymphका उपयोग करते हैं।

इनमें यह पदार्थ पूरी तरह से रक्त नहीं है बल्कि एक प्रकार का प्लाज्मा है तथा इंसानों की तरह यह पंप (Blood pumping) भी नहीं हो सकता पर यह जीवित रहने के लिए आवश्यक रसायनों को प्रदान करता है। यह शरीर के हर हिस्से में पाया जाता है तथा स्वतंत्र रूप से बहता है। (Post : जीव विज्ञान के मोस्ट इंपोर्टेंट प्रश्न)



(6) जीवविज्ञान के बार में कुछ दुर्लभ तथ्य क्या है?

जिव विज्ञान की सबसे ऊचा “मॉडल” मानव शरीर है, इसलिए हम मानव शरीर के कुछ दुर्लभ तथ्य लिखेंगे. 

  • हर दिन, हमारा दिल 32 किलोमीटर तक ट्रक चला सकता है. “हॉर्न ओके प्लीज़”
  • नींद के बिना सतत “जागते रहो” का रेकोर्ड 11 दिन का है.
  • 90% से अधिक रोग तनाव के कारण होते हैं, तो बोलो ‘आल इस वेल”
  • आपका दिल धडकते वक्त उस संगीत की नकल करता है जिसे आप सुनते हैं. “दिल तो पागल है”
  • एक वर्ष में लगभग इन्सान 15000 सपने देखता है, अच्छा है इसके लिए टिकिट नही लगती.
  • 3 इंच धातु की कील बनाने के लिए शरीर में पर्याप्त लोहा होता है. “द आर्यन मेन”
  • फिंगर प्रिंट्स की तरह, हमारी जीभ के निशान भी अलग होते हैं, (अच्छा है आधार वालो को नही पता वरना हमसे मशीन चटवाते.)
  • यदि मानव आँख एक डिजिटल कैमरा होता, तो इसमें 576 मेगापिक्सेल होते. सुनलो ओपो विवो.
  • स्विट्ज़रलैंड की एक कंपनी के अनुसार, एक इंसान की आँख को फिर से बनाने के लिए, 532 करोड़ रूपये की लागत आयेगी.
  • हमारा और चिम्पाजी का DNA लगभग 98% एक जैसा है. वो 2 % DNA hi हमे इन्सान बनाता है.
  • 30 मिनट में, आपका शरीर 100 लिटर पानी उबाल सके इतनी गर्मी पैदा करता है.
  • मानव की हड्डी ग्रेनाइट या कंक्रीट से अधिक मजबूत है! कंक्रीट की तुलना में, मानव हड्डी चार गुना अधिक मजबूत है!
  • मानव अस्थि मज्जा हररोज 260 बिलियन लाल रक्त कोशिकाओं और 135 बिलियन सफेद रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करता है! ओह! इतना बड़ा टारगेट.
  • मानव शरीर का “रो मटिरियल” तारो की धुल से बना है और वो अरबो साल पुराना है.

(7) जीव विज्ञान की कितनी साखाएँ हैं?

1. Acarology: Ticks और Mites का अध्ययन।

2. Actinobiology: जीवों पर विकिरण प्रभावों का अध्ययन।

3. Aerobiology: उड़नशील जीवों का अध्ययन।

4. Agricultural: कृषि का अध्ययन।

5. Anaesthesiology: निश्चेतना उत्पन्न करने के लिए विज्ञान।

6. Angelology: Artery और veins सहित blood circulation system का अध्ययन।

7. Anthology: Flowers का अध्ययन।

8. Aphidology: दीमकों का अध्ययन।

9. Araneology: Spiders (मकड़ियों) का अध्ययन।

10. Arthrology: Joints का अध्ययन।

11. Arthropodology: Crustaceans का अध्ययन।

B

1. Bacteriology: Bacterias का अध्ययन।

2. Bryology: Mosses और Liverworts का अध्ययन।

C

1. Cardiology: Heart ♥ का अध्ययन।

2. Condriology: Cartilage का अध्ययन।

3. Chorology: जीवों के भौगोलिक वितरण का अध्ययन।

4. Cnidolology: Coelenterates का अध्ययन।

5. Conchology: कवचों का अध्ययन।

6. Craniology: खोपड़ी का अध्ययन।

7. Cryobiology: Low temperatures पर जीवन पर पड़ने वाले प्रभावों का अध्ययन।

D

1. Tautology: जीवों के उपार्जित (acquired) लक्षणों का अध्ययन।

2. Demicology: Population का पारिस्थितिक अअध्ययन।

3. Demography: Population का अध्ययन।

4. Dermatology: शारीरिक त्वचा का अध्ययन।

E

1. Epidemiology: Parasites का संक्रमण या व्यापक रोगों का अध्ययन।

2. Ethanology: मानव जाति का अध्ययन।

3. Ethology: जन्तुओं के व्यवहार का अध्ययन।

4. Aetiology: Diseases के कारणों का अध्ययन।

5. Eugenics: Genetics के नियमों द्वारा मानव जाति में सुधार करने का अध्ययन।

6. Euthenics: मनुष्य की आधुनिक पीढ़ी का अच्छे पालन पोषण द्वारा सुधार का विज्ञान।

G

1. Genecology: जाति और जनसंख्या में उसके स्वभाव से संबंधित आनुवंशिक बनावट का अध्ययन।

2. Geology: चट्टानों में पाए जाने वाले प्रमाणों के आआधार पर पृथ्वी एवं जीवन का अध्ययन।

3. Gerontology: वृद्धावस्था का अध्ययन।

4. Gynaecology: Female reproductive organs का अध्ययन।

H

1. Haematology: रक्त का अध्ययन।

2. Helminthology: Parasite worms का अध्ययन।

3. Hepatoplogy: Liver का अध्ययन।

4. Hypnology: Sleep का अध्ययन।

5. Herpetology: Reptiles का अध्ययन।

K

1. kalology: Human beauty का अध्ययन।

2. Karyology: Nucleus का अध्ययन, विशेषतः chromosomes का।

3. Kinesiology: Human और Non Human body movement का अध्ययन।

4. Leprology: Leprosy का अध्ययन।

5. Limnology: स्वच्छ जलीय पारिस्थितिकी तथा घोंघों का अध्ययन।

M

1. Malacology: Mollusc का अध्ययन।

2. Mastology: Breasts और Nipples का अध्ययन।

3. Meteorology: बादलों का अध्ययन।

4. Melonology: Pigments का अध्ययन।

5. Molecular biology: Atomic level पर जीवन विज्ञान का अध्ययन।

6. Mycology: Fungus का अध्ययन।

7. Myology: Muscles का अध्ययन।

8. Myrmecology: चिटियों तथतथा चीटीखोर का अध्ययन।

N

1. Nematology: Nematodes का अध्ययन।

2. Nephrology: Kidney का अध्ययन।

3. Neurology: मस्तिष्क सहित तंत्रिका तंत्र का अध्ययन।
(brain and nervous system)

O

1. Ornithology: पक्षियों के घोसलों का अध्ययन।

2. Obstetrics: प्रसव संबंधी (Midwifery) विज्ञान।

3. Odontology: Teeth और मसूड़ों का अध्ययन।

4. Olericulture: Vegetables का संवर्द्धन का अध्ययन ।

5. Oncology: Tumour का अध्ययन।

6. Oneirology: Dreams (स्वप्नों) का अध्ययन।

7. Ontogeny: परिवर्धन कके दौरान जीवों के जीवन इतिहास का अध्ययन।

8. Oology: पक्षियों के अण्डों का अध्ययन।

9. Ophthalmology: आँखों का अध्ययन।

10. Organicology: Embryonic stage के दौरान अंगों के परिवर्धन का अध्ययन।

11. Organology: Organs का अध्ययन।

12. Ornithology: पक्षियों का अध्ययन।

13. Osteology: Bones का अध्ययन।

14. Otolaryngology: Ear और Throat का अध्ययन।

15. Otorhinolaryngology: (ENT).. कान, नाक और गले का अध्ययन।

P

1. Paediatrics: बच्चों में रोगों और असामान्यताओं के अध्ययन का विज्ञान।

2. Parasitology: Parasites का अध्ययन।

3. Parazoology: Sponges का अध्ययन।

4. Pharmacognosy: Medicinal plants का अध्ययन।

5. Phrenology: मस्तिष्क एवं भावनाओं की मानसिक सामर्थ्यता का अध्ययन।

6. Phycology: Algae का अध्ययन ।

7. Phylogeny: उद्विकास इतिहास का अध्ययन।

8. Phytopathology: Plants diseases , इनके causes एवं symptoms का अध्ययन।

9. Promology: Fruits का अध्ययन।

10. Proctology: Rectum और Anus सहित large intestine का अध्ययन।

11. Protistology: Protista का अध्ययन।

12. Protozoology: Protozoans का अध्ययन।

13. Psychiatry: मानसिक रोगों के चिकित्सकीय निवारण का अध्ययन।

14. Pteridology: Ferns का अध्ययन।

15. Rhinology: नाक एवं घ्राण अंगों का अध्ययन।

S

1. Sarcology: Muscles का अध्ययन।

2. Saurology: Lizards का अध्ययन।

3. Serology: Serums का अध्ययन।

4. Serpentology: Snakes का अध्ययन।

5. Sonology: Hearing का अध्ययन।

6. Space biology: बाह्य अंतरिक्ष में जीवन के अस्तित्व का अध्ययन।

7. Speciology: Species का अध्ययन।

8. Splecnology: विसरल अंगों का अध्ययन।

9. Syndesmology: Bone joints और Ligaments का अध्ययन।

T

1. Teratology: विलक्षणता एवं भ्रूणीय विकृति का अध्ययन।

2. Termitology: दीमकों का अध्ययन।

3. Toxicology: Medicine एवं हानिकारक यौगिकों के विषैले प्रभावों का अध्ययन।

4. Therapeutics: रोग ठीक होने का विज्ञान।

5. Traumatology: घावों का अध्ययन।

6. Trichology: बालों (Hairs) का अध्ययन।

7. Trophology: पोषण (Nutrition)का अध्ययन।

U-Z

1. Urology: Urine एवं उसके रोगों का अध्ययन।

2. Venereology: मैथुन संबंधी रोगों का अध्ययन।

3. Virology: Viruses का अध्ययन।

4. Zoophytology: जीवों के drifting, जैसे -Diatoms का अध्ययन।

5. Zootechni: जंतुओं के पालतूकरण एवं प्रजनन का अध्ययन।

6. Zymology: Fermentation का अध्ययन।


Post Complete : जीव विज्ञान के मोस्ट इंपोर्टेंट क्वेश्चन - Most important Questions of Jeev Vigyan

Post a Comment

Previous Post Next Post