सीड प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी Seed Production Technology in Hindi

Seed Production Technology in Hindi


सीड प्रोडक्शन टेक्नोलॉजी Seed Production Technology एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसे डेवेलोप करने में मानव को कई साल लग गए।  इस टेक्नोलॉजी की मदद से लोग अब अच्छी आय ले रहे है। फसल की गुणवत्ता कई गुना बढ़ गयी है।  आज हम इसी टेक्नोलॉजी के बारे में कुछ जानेंगे। वैसे तो ये टेक्नोलॉजी की फील्ड काफी बड़ी है पर हम यहाँ पे आपको इसके बेसिक कांसेप्ट को बताएंगे।  

विभिन्न कृषि-जलवायु परिस्थितियों में उत्पादकता को प्राप्त करने और खेती को अपनाने के लिए उन्नत किस्मों के गुणवत्ता वाले बीजों की उपलब्धता को महत्वपूर्ण माना जाता है। अकेले बीज की गुणवत्ता उत्पादकता में कम से कम 10-15% वृद्धि (ICAR 1993) के लिए जानी जाती है। हालांकि, गुणवत्ता वाले बीज की कमी, विशाल उपज के अंतर को कम करने के लिए सबसे बड़ी बाधाओं में से एक बनी हुई है। अच्छी गुणवत्ता वाले बीज में निम्नलिखित बाते होनी चाहिए।

  1. रोग मुक्त, व्यवहार्य बीज।
  2. खरपतवार और अक्रिय पदार्थ के मिश्रण से मुक्त।
  3. आकार और रंग के संबंध में स्वीकार्य एकरूपता।

Seed Production Technology in Hindi


बीज उत्पादन क्या है ? What is Seed Production ?


व्यवस्थित फसल उत्पादन को बीज उत्पादन के रूप में जाना जाता है। बीज उत्पादन में फसल की उचित खरीद और फसल प्रबंधन तकनीकों को अपनाते हुए बीजों को पर्याप्त देखभाल दी जाती है। बीज उत्पादन के लाभ कुछ इस प्रकार होते हैं।  

  • अधिक आय
  • अगली फसल 

बीज की गुणवत्ता [Quality of seed]:

थॉम्पसन (1979) ने कई गुणों के रूप में बीज की गुणवत्ता को परिभाषित किया जिसमें कई घटक और विभिन्न परिस्थितियों में उनके सापेक्ष महत्व और विश्लेषणात्मक शुद्धता या भौतिक शुद्धता, प्रजातियों की शुद्धता या आनुवंशिक शुद्धता, खरपतवारों से मुक्ति, अंकुरण प्रतिशत, बीज शक्ति और स्वास्थ्य पर अधिक जोर दिया गया।

Seed quality characters: A good seed should have the following quality characters :


Improved variety :
  • यह मौजूदा किस्म से बेहतर होना चाहिए यानी उपज में मौजूदा किस्म की तुलना में 20-25% अधिक होना चाहिए या अच्छी उपज क्षमता के साथ इसमें कुछ वांछनीय गुण जैसे रोग प्रतिरोधक क्षमता, सूखा प्रतिरोध, नमक सहनशीलता आदि होना चाहिए।

Genetic Purity:

  • बीज को टाइप करने के लिए सही होना चाहिए। सभी बीज के पास आनुवांशिक गुण / वर्ण,आनुवंशिक शुद्धता होना चाहिए क्योकि वो पैदावार पर सीधा प्रभाव देता है। यदि कोई गिरावट होती है, तो उपज या प्रदर्शन में आनुपातिक कमी होगी।

Physical Purity:

  • एक बीज की भौतिक शुद्धता का तात्पर्य भौतिक संरचना से है। एक बीज शुद्ध बीज, अक्रिय मैटर, टूटे हुए बीज, अंडरसिज्ड बीज, मिट्टी और धूल के कण खरपतवार के बीज, अन्य फसल के बीज आदि से बना होता है। उच्चतर शुद्ध बीज की सामग्री बेहतर बीज गुणवत्ता देती है। अंकुरण के साथ शुद्ध बीज, बीज के रोपण को मूल्य प्रदान करता है।

Classes or Types of Seed :

  1. Nucleus seed
  2. Breeder’s seed
  3. Foundation seed
  4. Certified seed
  5. Truthfully labeled Seed


बीज की व्यवहार्यता को बीज की क्षमता के रूप में परिभाषित किया जाता है जो कुछ विशिष्ट समय के लिए अंकुरण में सक्षम हो। विभिन्न बीजों की व्यवहार्यता काफी हद तक भिन्न हो सकती है। कुछ बीज कुछ हफ्तों के बाद भी व्यवहार्यता को ढीला कर देते हैं, जबकि कुछ बीज कई वर्षों तक व्यवहार्य रह सकते हैं। उसे बीज की Viability कहते है। 

बाकि की जानकारी हम लोग यहाँ पे कुछ दिनों में अपडेट करेंगे।  


Post a Comment

Previous Post Next Post